गहलोत के साथ बस 84 MLA, आलाकमान से नहीं हुई बात: पायलट

 
जयपुर 

राजस्थान में अशोक गहलोत की सरकार पर मंडरा रहा संकट अब हटता हुआ दिख रहा है. सोमवार दोपहर को अशोक गहलोत ने सौ से अधिक विधायकों की परेड मीडिया के सामने करवाई और विक्ट्री साइन दिखाया. साफ है कि अशोक गहलोत ने संदेश दिया है कि उनके पास बहुमत है और सचिन पायलट के सभी दावे गलत साबित होते दिख रहे हैं. ऐसे में अब हर किसी की नजर इसपर है कि सचिन पायलट क्या कदम उठाएंगे. सचिन पायलट लगातार 25 से अधिक विधायक होने का दावा कर रहे थे.

 सचिन पायलट ने कहा है कि हमने कोई भी समझौते की शर्त नहीं रखी है, और किसी आलाकमान से उनकी बातचीत नहीं चल रही है. पायलट गुट का कहना है कि अशोक गहलोत के पास कांग्रेस के मात्र 84 विधायक हैं बाकी हमारे साथ हैं.

 पार्टी आलाकमान ने सचिन पायलट को मैसेज भेजा है कि हमारा आप पर स्नेह है. हम आपका सम्मान करते हैं. हम खुले दिल से आपका स्वागत करने के लिए तैयार हैं. प्लीज लौट आएं और बात करें.  राजस्थान के विधायक दल में प्रस्ताव पारित किया है. प्रस्ताव में कहा गया है कि कोई भी कांग्रेस का पदाधिकारी और कांग्रेस का नेता या विधायक सरकार के खिलाफ षड्यंत्र में पाया जाता है तो उसके खिलाफ कठोर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी. कांग्रेस विधायक दल ने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी में पूरी आस्था व्यक्त करते हुए अपना नेता सर्वसम्मति से अशोक गहलोत को माना है. कांग्रेस विधायक दल में प्रस्ताव पारित हुआ है कि बीजेपी के षड्यंत्रकारी मंसूबों को पूरा नहीं होने दिया जाएगा. कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से एकजुट है.
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here