स्वामी विवेकानंद विश्वविद्यालय के फार्मेसी विभाग में वेबिनार का आयोजन

सागर
वर्तमान वैश्विक महामारी को द्रष्टिगत रखते हुए स्वामी विवेकानंद  विश्वविद्यालय, सागर के फार्मेसी विभाग द्वारा में “कोविड एंड फार्मा इंडस्ट्री : अपोर्तुनितीस आर चेलेन्जेस” विषय पर राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया | इस वेबिनार में देश के विषय विशेषज्ञ, अनुशंधान शोधार्थियों तथा छात्र छात्राओं ने बड़ी संख्या में भाग लिया| वेबिनार के संयोजक डॉ शैलेन्द्र पाटिल द्वारा विषय के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया की कोविड 19 पुरे विश्व के लिए एक आघात की तरह है| ये आवश्यक हो गया है की हम इसके कारणों को जाने तथा इसके लिए आवश्यक तौर पर विचार करे तथा इस समस्या के पश्चात होने वाले “रिकंस्ट्रक्शन” फेज के लिए स्वीकार करे जो की ना सिर्फ स्वास्थ्य, अर्थ व्यवस्था, सामाजिक वरन पर्यावरण को मद्देनजर रखते हुए स्वीकार करना होगा|  वैश्विक महामारी कोविड-19 के परिद्रश्य में आयोजित किये गए इस वेबिनार में फार्मेसी के विषय विशेषज्ञ डॉ एल के ओमरे, डायरेक्टर, राधारमण इंस्टिट्यूट ऑफ़ फार्मास्यूटिकल साइंसेज, भोपाल एवं डॉ नवनीत खुराना, विभागाध्यक्ष, लवली प्रोफेसनल यूनिवर्सिटी, फगवाडा (पंजाब) सह्मिल हुए|

कार्यक्रम की शुरुआत में डॉ राजेश दुबे, कुलपति, स्वामी विवेकानंद विश्वविद्यालय द्वारा विषय विशेषज्ञों तथा समस्त प्रतिभागियों सहित उपस्थित समस्त विद्वतजनो का स्वागत करते हुए अपने विचार प्रस्तुत किये| उन्होंने कहा की अब समय आ गया है की हमें साझेदारी करते हुए इस महामारी के दौर में अन्य संस्थानों से ज्ञान तथा डाटा का आदान – प्रदान  करना आवश्यक होगा जो की इस महामरी का इलाज दुदनेमें अग्रसर कदम होगा|

वेबिनार की शुरुआत  में डॉ अनिल तिवारी, प्रबंध निदेशक, स्वामी विवेकानंद विश्वविद्यालय द्वारा अपने उद्बोधन में प्रधानमंत्रीजी के द्वारा कोविड 19 के परिप्रेक्ष्य में किये जा रहे कार्यो तथा विशेषकर मिशन आत्मनिर्भर पर प्रकाश डालते हुए देश में कुटीर उद्योग स्थापित किये जाने हेतु लिए गए निर्णय तथा देश के प्रत्येक नागरिक के लिए आत्मनिर्भर बनाने हेतु संभावित क्षेत्रो तथा क्षेत्र विशेष में चालू किये जाने वाले उद्योगों के बारे में प्रकाश डाला| इस वैश्विक महामारी के समय विश्वविद्यालय द्वारा किये जा रहे विभिन्न सामाजिक कार्यो की   जानकारी दी|

      डॉ ओमरे ने कोविड 19 तथा इनके फार्मा उद्योग पर आने वाले अवसरों तथा चुनोतियो  के सम्बन्ध में तथा इस महामारी के उपचार के लिए की जा रही रिसर्च तथा उपायों को विस्तार पूर्वक समझाया| उन्होंने देश में इस हेतु आत्मनिर्भर कैसे बने के बारे में तथा विभिन्न उद्योगों के क्षेत्र में किये जा रहे प्रयासों के बारे बताया|  

 डॉ नवनीत खुराना ने  इस वैश्विक महामारी में भारतीय फार्मा उद्योग की भूमिका, प्रयासों तथा योगदान की महतवपूर्ण जानकारी देते हुए वैक्सीन डेवलपमेंट तथा उसके क्लिनिकल ट्रायल से समबन्धित जानकारी दी| तथा ये भी बताया की भारत इस दिसा में बहुत जल्दी आगे बढेगा|

वेबिनार में विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ अजय तिवारी  ने अपने संबोधन में बताया की लोगो द्वारा इस समय की जा रही छोटी छोटी असावधानियो के बारे में अवगत करते हुए कहा की हमें पब्लिक को और जागरूक किया जाने हेतु पम्फलेट छपवाकर जानकारी देना तथा डिजिटल मीडिया का उपयोग करते हुए इस अभियान को बढ़ाने हेतु कार्य करने की आवयश्कता  के बारे में बताया|  

इस वेबिनार के संयोजक डॉ शैलेन्द्र पाटिल द्वारा इस महामारी की रोकथाम तथा वैक्सीन विकसित करने की प्रक्रिया तथा भारतीय फार्मा इंडस्ट्री द्वारा इस क्षेत्र में लिए गए निर्णयों तथा अद्यतन  स्थिति की जानकरी से अवगत कराया| इस वेबिनार के कोऑर्डिनेटर डॉ रविन्द्र चौरसिया  द्वारा सभी प्रतिभागियों, विषय   विशेषज्ञों तथा समस्त स्टाफ तथा छात्र – छात्राओं का आभार व्यक्त किया|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here