रिजिजू के इस बयान से IPL पर मंडराया संकट

नई दिल्ली
केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू ने शनिवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के मद्देनजर भारत निकट भविष्य में किसी भी अंतरराष्ट्रीय टूर्नमेंट की मेजबानी नहीं करेगा। उन्होंने साथ ही कहा कि खिलाड़ियों और फैंस को बिना दर्शकों के स्टेडियम में होने वाली गतिविधियों का लुत्फ उठाने के बारे में सीखना होगा।

रिजिजू की इस बात का प्रभाव सबसे ज्यादा इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) पर पड़ेगा। ऑस्ट्रेलिया में प्रस्तावित टी20 वर्ल्ड कप के स्थगित होने की स्थिति में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) अक्टूबर-नवंबर में इसके आयोजन की योजना बना रहा है।

रिजिजू ने ‘इंडिया टुडे’ से कहा, ‘हम खेल गतिविधियों को फिर से शुरू करने के लिए काफी समय से काम कर रहे हैं लेकिन इससे पहले हमें अभ्यास और प्रशिक्षण के बारे में सोचना होगा। हम तुरंत टूर्नमेंट शुरू करने की स्थिति में नहीं है। हमें ऐसी स्थिति के साथ रहने के बारे में सीखना होगा जहां स्टेडियम में दर्शकों के बिना खेल गतिविधियों का संचालन होगा।’

कोविड-19 महामारी के कारण अनिश्चितकाल के लिए स्थगित किए गए आईपीएल के 13वें संस्करण के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि देश में किसी भी टूर्नमेंट का आयोजन करने से जुड़ा निर्णय लेने का विशेषाधिकार सरकार के पास है। उन्होंने कहा, ‘इस बारे में सरकार को फैसला करना है और वह स्थिति को देखने के बाद फैसला करेगी। हम स्वास्थ्य को जोखिम में डालकर खेलों का आयोजन नहीं कर सकते।’

उन्होंने कहा, ‘हमारा ध्यान कोविड-19 से लड़ने पर है और स्थिति को सामान्य करने पर काम कर रहे हैं। किसी तारीख के बारे में बताना मुश्किल होगा लेकिन मुझे यकिन है कि हमारे पास इस साल कुछ खेल प्रतियोगिताएं होंगी।’

एक साल तक स्थगित हुए तोक्यो ओलिंपिक की संभावनाओं के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि इन खेलों का आयोजन नयी तारीखों पर होगा। उन्होंने कहा, ‘भारत की तैयारियों की बात करें तो हम अब तक किसी भी ओलिंपिक की तुलना में बेहतर स्थिति में है। ओलिंपिक के लिए यह भारत का सबसे बड़ा दल होगा और पदक जीतने की संभावना भी अधिक होगी।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here