कोविड-19 की जांच बगैर सर्दी-खांसी का इलाज करते 9 झोलाछाप डॉक्टर गिरफ्तार

बलौदाबाजार
कोविड -19 की टेस्ट कराये बिना ग्रामीणें की सर्दी खांसी का इलाज करने वाले 9 झोलाछाप डाक्टरों के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग द्वारा कार्रवाई करते हुए उनके दवाखानों को सील करते हुए सवा लाख रुपये का जुमार्ना भी वसूला गया।

बताया जाता है कि पलारी तहसीलदार हरिशंकर पैकरा एवं स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त टीम द्वारा विकासखण्ड में स्थित विभिन्न अपंजीकृत एवं झोलाछाप डॉक्टरों के दवाखानों में औचक निरीक्षण किया। इस दौरान बड़ी संख्या में झोालाछाप डाक्टरों के द्वारा ग्रामीणों का कोविड -19 की टेस्ट कराये बिना सर्दी-खांसी का इलाज किया जा रहा था। इन झोलाछाप एवं अपंजीकृत डॉक्टरों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए प्रशासन की टीम ने 1 लाख 17 हजार रुपए का जुमार्ना लगाया। साथ ही इनके दवाखानों को सील किया गया। उक्त जुमार्ना प्रशासन ने जीवन दीप समिति के माध्यम में जमा कर दिया।

तहसीलदार श्री पैकरा ने बताया कि जिन 9 झोलाछाप डाक्टरों के खिलाफ कार्रवाई कर जुमार्ने की राशि वसूल की गई है उनमें पलारी के आर आर जाल से 7 हजार, ग्राम रोहांसी से आर के वर्मा से 20 हजार, आसिम दास बंगाली से 10 हजार, ओएन मनहरे से 10 हजार, ग्राम ओड़ान एचसी साहू से 20 हजार, ग्राम संडी से महेन्द वर्मा 20 हजार, गुरुचरण साहू से 10 हजार, विशंभर साहू एवं चतुवेर्दी से 10-10 हजार रुपए का जुमार्ना वसूल किया गया है। इन सभी 9 झोलाछाप डाक्टरों के दवाखानों को सील करते हुए भविष्य में ऐसी गलती ना करने की समझाइश दी गई है। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग बीएमओ डॉ एफ आर निराला, मुख्य नगर पालिका अधिकारी लवकेश कुमार, टीआई सीआर चंद्रा, सीनियर मेडिकल अफसर ध्रुव, नायब तहसीलदार कुणाल पांडेय सहित राजस्व विभाग के कर्मचारी एवं अधिकारी गण उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here