MP: भोपाल पहुंची राज्यपाल ; सियासी सरगर्मी बढ़ी

भोपाल(Janprachar.com)।मंत्रिमंडल विस्तार,संगठन की नई कार्यकारिणी व निगम,मंडलों में नियुक्तियों को लेकर मुख्यमंत्री निवास में आज लगभग पूरे दिन मंथन का दौर चला। इसी बीच,राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल भी आज अपरान्ह भोपाल पहुंच गई। तय समय से तीन दिन पहले राज्यपाल की भोपाल यात्रा व मुख्यमंत्री निवास में चले मंथन ने सत्तारुढ़ दल भाजपा में सियासी हलचल तेज हो गई है। माना जा रहा है,कि एक दो दिन में बड़े सियासी फैसले प्रदेश में हो सकते हैं।
उक्त नियुक्तियों को लेकर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा,संगठन महामंत्री सुहास भगत की शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ लंबी चर्चा हुई। भाजपा पदाधिकारीद्वय सुबह साढ़े दस बजे मुख्यमंत्री निवास पहुंचे और करीब दो बजे तक वहां रहे। शाम को एक बार फिर मुख्यमंत्री के प्रदेश भाजपा कार्यालय पहुंचने व मंथन का कार्यक्रम बना,लेकिन ऐन वक्त पर इसमें बदलाव हुआ। बताया जाता है,कि पार्टी प्रदेशाध्यक्ष ने शाम को एक बार फिर मुख्यमंत्री के साथ उक्त नियुक्तियों को लेकर मंथन किया। मुख्यमंत्री निवास से लौटने के बाद उनके निवास पर भी शाम तक बैठकों का दौर जारी रहा।
माना जा रहा है,कि उक्त नियुक्तियों को लेकर अंतिम निर्णय किया जा चुका है और एक दो दिन में इनकी घोषणाएं हो सकती हैं,हालांकि राज्यपाल की अचानक यात्रा को देखते हुए माना जा रहा है,कि पहले मंत्रिमंडल विस्तार की प्रक्रिया अपनाई जा सकती है। ऐसा हुआ तो उपचुनाव के दौरान इस्तीफा देने वाले पूर्व मंत्री तुलसीराम सिलावट,गोविंद सिंह राजपूत के अलावा रिक्त हारे हुए तीन पूर्व मंत्रियों के स्थान पर अन्य विधायकों को शपथ दिलाई जा सकती है। हालांकि मंत्रिमंडल में फिलहाल छह पद रिक्त हैं। माना जा रहा है,कि मुख्यमंत्री एक पद रिक्त रखना चाहेंगे। तीन पदों में संजय पाठक,रामपाल सिंह को जगह मिलने की संभावनाएं अधिक हैं। बताया जाता है,कि उक्त मंथन के दौरान पूर्व मंत्री संजय पाठक भी मुख्यमंत्री निवास पहुंचे।
बदले जा सकते हैं तीन उपाध्यक्ष
इधर,प्रदेश भाजपा संगठन के मौजूदा उपाध्यक्ष ऊषा शर्मा,अरविंद भदौरिया व बृजेेंद्र प्रताप सिंह के मंत्री बनने से इन्हें संगठन उपाध्यक्ष पद से अलग किया जा सकता है। इसी तरह,उपचुनाव वाली सभी सीटों से इस बार टिकट से वंचित रहे पिछले चुनाव के उम्मीदवारों को भी संगठन में अवसर दिया जा सकता है। वहीं उपचुनाव हारे तीन मंत्रियों में दो को निगम मंडलों में तो एक को संगठन में एडजस्ट करने पर विचार किया जा रहा है। माना जा रहा है,कि मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर मुख्यमंत्री शीघ्र ही राज्यपाल से मुलाकात कर सकते हैं। हालांकि आज देर शाम तक उन्होंने राज्यपाल से मुलाकात नहीं की थी। इधर, आज हुई बैठक को प्रदेश अध्यक्ष वी डी शर्मा ने सामान्य बताया। उन्होंने कहा कि ऐसी बैठकों में संगठन और सरकार के कामकाज पर चर्चा सामान्य बात है।
दो दिन ही भोपाल में रुकेंगी राज्यपाल
इधर, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल आज अपरान्ह सवा तीन बजे विशेष विमान से लखनऊ से भोपाल पहुंची। वह दो दिन भोपाल में रहेंगी व 7 दिसंबर क ो बांधवगढ़ पहुंचेगी। वहां 4 दिन रुकने के बाद आगामी 10 दिसंबर को उमरिया से इंदौर होती हुई लखनऊ वापस जाएंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here