राम मंदिर भूमिपूजन से कांग्रेस में बेचैनी ,ट्विटर पर ‘भगवा हुए’ कमलनाथ, किया हनुमान चालीसा का पाठ

भोपाल।अयोध्या में राम मंदिर के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भूमि पूजन किए जाने व भाजपा को मंदिर निर्माण को इसका श्रेय मिलने से कांग्रेस में बेचैनी का आलम है। इसके चलते धर्म की भावनाएं उनमें अब पहले की अपेक्षा अधिक हिलौरे मार रही हैं।
इसके चलते प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने मंगलवार को अपने निवास पर न केवल हुनमान चालीसा व सुंदरकांड का पाठ किया,बल्कि ट्वीटर पर अपनी प्रोफाइल फोटो बदलकर भगवा वस्त्र पहने हुए वाली तस्वीर चस्पा की। यह तस्वीर किए नदी किनारे खिंचवाई गई हुई है।
पाठ के बाद उन्होंने घोषणा की कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं के सहयोग और प्रदेश की जनता की ओर से अयोध्या के राम मंदिर के लिए चांदी की 11 शिलाएं भेजी जाएंगी। इतना ही नहीं कमल नाथ ने ट्विटर एकाउंट की प्रोफ ाइल तस्वीर को बदलते हुए भगवा धारण की हुई फोटो भी लगा ली।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हनुमान चालीसा का पाठ प्रदेश की खुशहाली, उन्नति, समृद्घि की कामना के लिए किया है। भारतीय संस्कृति सबको जोडऩे वाली है। विभिन्न भाषाएं और धर्मों के लोग यहां रहते है। भारत की पहचान यहां मिली जुली संस्कृति है। कमल नाथ ने कहा कि कांग्रेस राम मंदिर निर्माण का स्वागत करती है। इस मामले में उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का भी स्मरण किया।
कमलनाथ के भगवाधारी होने पर भाजपा ने कसा तंज
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के ट्विटर पर इस तरह कपड़े बदलने पर मप्र भाजपा अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने तंज कसा। उन्होंने कहा,कि ‘अब तो कमल नाथ जी भगवा हो गए। दिग्विजय सिंह जी, आतंकी रंग को लेकर आपकी राय क्या है? ‘
वहीं प्रदेश भाजपा प्रवक्ता आलोक संजर ने कहा,कि कांग्रेस ने पूरे राम मंदिर आंदोलन के दौरान जो पाप किए हैं, उनसे हनुमान चालीसा पाठ भी मुक्ति नहीं दिला सकेगा। इस पाप से मुक्ति के लिए कांग्रेस पार्टी और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को राम लला और देश-प्रदेश की जनता से सार्वजनिक रूप से माफ ी मांगनी चाहिए, जिसकी भावनाओं को कांग्रेस ने लगातार ठेस पहुंचाई है।
श्री नाथ को देश-प्रदेश की जनता के सामने यह स्पष्ट करना चाहिए कि कांग्रेस का असली चेहरा कौन सा है? प्रभु श्रीराम के अस्तित्व पर सवाल उठाने वाली कांग्रेस असली थी या ये हनुमान चालीसा पाठ करने वाली कांग्रेस असली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here