WHO ने माना, कोरोना के नये वेरिएंट्स के लिए मौजूदा टीके पर्याप्त नहीं, ज्यादा प्रभावी Vaccines की जरुरत

Spread the love

दुनिया भर में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने साफ चेतावनी दी है कि मौजूदा टीके या उनकी बूस्टर डोज नये वैरिएंट को रोकने के लिए पर्याप्त नहीं है। ऐसे में इसके संक्रमण से बचाव के लिए दुनिया को इनसे ज्यादा प्रभावी वैक्सीन विकसित करने की जरूरत है। ये बात WHO की टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ने अपनी रिपोर्ट में कही है। इन विशेषज्ञों ने आगाह किया कि ऑरिजिनल कोविड टीकों की बूस्टर खुराक को दोहराने से उभरते हुए वेरिएंट के प्रसार को रोकना मुश्किल है। ऑमिक्रॉन के म्यूटेशनल प्रोफाइल और शुरुआती आंकड़े बताते हैं कि मौजूदा वैक्सीन इसे रोकने में उतने प्रभावी नहीं है, लेकिन इसके गंभीर परिणामों से जरुर बचाते हैं।

कोविड -19 वैक्सीन संरचना पर WHO टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ( (TAG-Co-VAC ) ने एक बयान में कहा कि मूल वैक्सीन संरचना की बूस्टर खुराक (Booster Dose) के आधार पर वैक्सीनेशन रणनीति उचित या फिर टिकाऊ नहीं है। शुरुआती आंकड़ों से संकेत मिलता है कि मौजूदा टीके उन लोगों में कोविड बीमारी को रोकने में कम प्रभावी थे, जो नए ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Varinat) से संक्रमित हुए हैं। जल्द ही ऐसे टीके विकसित करने की जरूरत है, जो न केवल लोगों को गंभीर रूप से बीमार पड़ने से बचाते हैं, बल्कि पहले ही संक्रमण और संचरण को बेहतर तरीके से रोक सकते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप के विशेषज्ञों के एक समूह ने कोरोना वैक्सीन के कंपोजिशन (TAG-Co-VAC) पर कहा कि मौजूदा टीके गंभीर बीमारी और वेरिएंट ऑफ कंसर्न (Variants of Concern) के कारण होने वाली मौतों के खिलाफ उच्च स्तर की सुरक्षा प्रदान कर रहे हैं। लेकिन इस वायरस को रोकने के लिए हमें ऐसे टीके विकसित करने की जरूरत है, जो संक्रमण को और मजबूती के साथ रोक सके। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने चेतावनी दी है कि अगले छह से आठ हफ्ते के भीतर यूरोपीय आबादी का करीब 50 फीसदी कोविड-19 के ओमिक्रॉन वेरिएंट से संक्रमित हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *