मध्य प्रदेश में बिजली संयंत्रों की नौ इकाईयों में उत्पादन बंद,निजी क्षेत्र से हो रही खरीदी

भोपाल। प्रदेश के बिजली उत्पादन संयंत्रों की कई यूनिट बंद होने से बिजली का उत्पादन कम हो गया है। प्रदेश के विभिन्न संयंत्रों की नौ इकाईयां बंद हैं, जिसके कारण 5400 मेगावॉट क्षमता की जगह मात्र 1510 मेगावॉट बिजली उत्पादन हो रहा है।
मध्य प्रदेश में बिजली संयंत्रों की नौ इकाईयों में उत्पादन बंद,निजी क्षेत्र से हो रही खरीदी
जबकि जल बिजली परियोजना से 1500 मेगावॉट बिजली उत्पादित की जा रही है। हालांकि इन दिनों प्रदेश में साढ़े सात हजार मेगावॉट बिजली की मांग के कारण बिजली आपूर्ति पर कोई फ र्क नहीं पड़ा है, क्योंकि बिजली की इस कमी को पूरा करने के लिए सरकार निजी कंपनियों से ज्यादा से ज्यादा बिजली खरीद रही है।
विभागीय सूत्रों के अनुसार, प्रदेश में बारिश की शुरुआत होते ही बिजली संयंत्रों की कई यूनिट बंद हो गई हैं, जिस कारण बिजली उत्पादन प्रभावित हो गया है। संजय गांधी थर्मल पॉवर संयंत्र बिरसिंहपुर में तीन इकाईयां बंद पड़ी हैं। यहां महज दो इकाईयां चालू हैं, जिनमें 290 मेगावॉट बिजली का उत्पादन हो रहा है, जबकि क्षमता 1340 मेगावॉट की है।

खंडवा के सिंगाजी संयंत्र की दो यूनिट बंद हैं, दो चल रही हैं। यह संयंत्र 2520 मेगावॉट क्षमता का है, लेकिन उत्पादन 680 मेगावॉट हो रहा है। अमरकंटक में 210 मेगावॉट की एक यूनिट बंद है एक चल रही है। जल विद्युत संयंत्र(हाईडल प्रोजेक्ट) में 1500 मेगावॉट बिजली उत्पादन हो रहा है। सारणी संयंत्र में 330 मेगावॉट बिजली उत्पादन हो रहा है।

निजी क्षेत्र से ज्यादा ले रहे बिजली
बिजली आपूर्ति को सुचारू बनाए रखने के लिए सरकार उन कंपनियों से ज्यादा बिजली ले रही है, जिनसे सरकार ने बिजली खरीदी का अनुबंध कर रखा है। सरकार ने 20 हजार मेगावॉट बिजली खरीदी के अनुबंध कर रखे हैं।

ज्ञात हो कि पूर्ववर्ती सरकार ने वर्ष 2024 तक के लिए विभिन्न निजी बिजली कंपनियों से खरीदी का अनुबंध किया गया था। खरीदी करने या न करने पर इन्हें न्यूनतम तय शुल्क (फिक्स चार्ज)अदा करना ही होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here