तनाव के चलते संयुक्त राष्ट्र ने दी भारत-पाक को संयम बरतने की सलाह

नियंत्रण रेखा पर बढ़ी सैन्य गतिविधियों से हरकत में संयुक्त राष्ट्र संघ।
संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुतेरस ने भारत और पाकिस्तान से अधिकतम संयम बरतने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि दोनों तरफ से इस बात की कोशिश होनी चाहिए कि स्थिति अब और ज्यादा न बिगड़े। दोनों देशों की सीमा पर अचानक बढ़े तनाव के मद्देनजर गुतेरस ने यह अनुरोध किया है। इस बात की जानकारी महासचिव के प्रवक्ता स्टीफन डुजारिक ने दी है।
नियंत्रण रेखा पर बढ़ी सैन्य गतिविधियों से हरकत में संयुक्त राष्ट्र संघ।
संयुक्त राष्ट्र के सैन्य पर्यवेक्षक दल का हवाला देते हुए महासचिव की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि हाल के दिनों में नियंत्रण रेखा पर दोनों देशों की सैन्य गतिविधियां बढ़ी हैं।
इसका कारण दोनों देशों के बीच तनाव का बढ़ना है। ऐसे में दोनों देशों को टकराव से बचने के लिए अधिकतम संयम बरतने की जरूरतहै। ऐसा कोई काम न किया जाए जिससे स्थिति और बिगड़े।
संयुक्त राष्ट्र के पर्यवेक्षक दल ने जम्मू-कश्मीर स्थित नियंत्रण रेखा पर हो रहे युद्धविराम उल्लंघन पर अपनी रिपोर्ट महासचिव को दी है।
इस पर्यवेक्षक दल का गठन जनवरी 1949 में किया गया था। यह तभी से नियंत्रण रेखा पर दोनों देशों की सैन्य गतिविधियों पर नजर रखता आ रहा है। भारत ने 1972 में हुए शिमला समझौते के बाद इस पर्यवेक्षक दल की निगरानी को गैरजरूरी बता दिया था।
कहा था कि समझौते के बाद दोनों देशों के बीच जम्मू-कश्मीर को लेकर समझ बन गई है।
अब शिमला समझौते के दायरे में ही दोनों देश वार्ता करेंगे। शिमला समझौते तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और तत्कालीन पाकिस्तानी प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो के बीच हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here