वर्ल्ड कप टीम में नहीं चुने जाने से निराश अंबाती रायुडू ने क्रिकेट से लिया संन्यास

नई दिल्ली। आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के लिए नजरअंदाज किए गए सीनियर भारतीय क्रिकेटर अंबाती रायूडू ने बुधवार को क्रिकेट से संन्यास ले लिया। रायुडू ने इस बारे में पत्र के जरिए बीसीसीआई को सूचित कर दिया।

33 वर्षीय रायुडू को बीसीसीआई के सिलेक्टर्स ने इंग्लैंड और वेल्स में चल रहे वर्ल्ड कप के लिए अप्रैल महीन में भारतीय टीम चुनते वक्त नजरअंदाज किया था। सिलेक्टर्स ने उनकी बजाए विजय शंकर को महत्व दिया था और बताया गया था कि विजय को उनकी थ्री डायमेंशनल क्वालिटी की वजह से चुना गया है। वैसे रायुडू को रिजर्व खिलाड़ियों में चुना गया था जिससे उनके वर्ल्ड कप खेलने की उम्मीद बनी हुई थी।
लेकिन रायुडू के साथ इसके बाद दो बार नाइंसाफी हुई। ओपनर शिखर धवन को चोट लगी तो रिषभ पंत को उनकी जगह भारतीय टीम में चुना गया। इसके बाद जब विजय शंकर चोट की वजह से बाहर हुए तो उनकी जगह मयंक अग्रवाल को टीम में शामिल किया गया, जबकि मयंक ने अभी तक भारत की तरफ से एक भी वनडे नहीं खेला है।
नागरिकता प्रदान करने की पेशकश
रायुडू के साथ हो रहे इस तरह के व्यवहार के मद्देनजर आइसलैंड क्रिकेट ने उन्हें बुधवार को अपने देश की स्थायी नागरिकता प्रदान करने की पेशकश की। रायुडू के साथ हो रहे व्यवहार के मद्देनजर आइसलैंड क्रिकेट ने बुधवार को ट्वीट के जरिए रायुडू को अपने देश की स्थायी नागरिकता की पेशकश की।
इस ट्वीट में मयंक अग्रवाल का भी उल्लेख किया गया और रायुडू द्वारा विजय पर किए गए थ्रीडी चश्मे के कमेंट को भी शामिल किया गया। इसमें कहा गया कि नागरिकता संबंधी दस्तावेज पढ़ने के लिए रायुडू को थ्रीडी चश्मा हटाकर देखना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here