इंदौर नगर निगम : मेयर मालिनी गौड़ का चुनावी बजट, नहीं बढ़ाया कोई टैक्स

इंदौर। मेयर मालिनी गौड़ ने बुधवार को अपने कार्यकाल का आखिरी और पांचवां बजट जारी करते हुए कहा कि 5 हजार 647 करोड़ 18 लाख 10 हजार रुपए की आय नगर निगम को इस वित्तीय वर्ष में होगी। 5 हजार 574 करोड़ 40 लाख 68 हजार के खर्च होंगे।
इसमें पांच फीसदी अतिरिक्त पैसा शामिल करने के बाद 96 करोड़ 79 लाख 56 हजार रुपए का घाटा होगा। मेयर ने चुनावी बजट पेश किया है। कोई टैक्स नहीं बढ़ाया, नया कर भी नहीं लगाया और जो स्मार्ट सिटी के पुराने काम चल रहे हैं, उनको आगे बढ़ाने की बात कही है। मेयर ने दावा किया कि शहर में चल रहे काम दिसंबर तक सब पूरे हो जाएंगे।
महापौर मालिनी गौड़ ने बताया कि इंदौर को स्वच्छता में तीन बार अवार्ड दिलाकर हमने इंदौर का नाम देश ही नहीं, पूरे विश्व में रोशन किया है। 1500 से ज्यादा कचरा पेटी हटाई, 1000 से अधिक खुले स्थानों पर कचरे के ढेर शहर में दिखाई देते थे।
यूनाइटेड नेशन ने बैंकॉक में इंदौर को एशिया पेसिफिक देशों के शहरों के लिए इंदौर को रोल मॉडल घोषित किया है। उत्तर प्रदेश सहित कई राज्य सरकारों ने भी इंदौर को रोल मॉडल बताया है। गौड़ ने कहा कि अब हर रोज निकलने वाले कचरे को हमें कम करना है।
उन्होंने कहा कि इंदौर शहर में क्लासिक पूर्णिमा ऐसी कॉलोनी है, जहां न गीला कचरा निकलता है, न सूखा। ऐसी और कालोनियों में व्यवस्था की जा रही है, ताकि हम एक लाख परिवारों को इस साल के आखिरी तक जीरो वेस्ट श्रेणी में ला दें। इंदौर शहर से रोजाना निकलने वाला तीन सौ मैट्रिक टन कचरा कम करने का काम शुरू कर दिया है।
180 करोड़ रु. में 20 किलोमीटर सड़क
मास्टर प्लान के अनुसार मेजर रोड तीन, पांच, नौ, ग्यारह और आरई-2 जैसी महत्वपूर्ण सड़कें नगर निगम बनाएगा। बीस किलोमीटर लम्बी ये सड़कें बनाने के लिए पांच साल का लोन लेंगे। उस इलाके के लोगों के बीस से चालीस रुपए वर्गफुट बेटरमेंट चार्ज लेंगे। जो लोगों को पांच साल में देना पड़ेगा। नए सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट, नहर भंडारा, प्रतीक सेतु, प्राणी संग्रहालय, राधास्वामी मैदान, बिजलपुर तालाब और शेखर नगर में बना रहे हैं। कान्ह नदी के चार किलोमीटर के एरिये में डेवलपमेंट का काम चल रहा है।
मेयर ने बताया कि मेयर हेल्प लाइन 311-एप 2 अक्टूबर 2016 को शुरू की थी, जिस पर अभी तक 3 लाख 15 हजार 572 शिकायतें मिलीं, जिसमें 3 लाख 14 हजार 709 शिकायतें हल कर दीं। शहर की प्रमुख सड़कें 125 करोड़ रुपए खर्च करके बनाई गईं। शहर में चल रहे काम लगभग 80 फीसदी हो चुके हैं। अटल खेल संकुल, चिमनबाग मैदान, बाणेश्वरी कुंड के सामने खेल मैदान में सुविधाएं उपलब्ध कराईं। 80 से ज्यादा सरकारी स्कूलों में काम कराए गए। 41 पुल-पुलियाओं का काम पूरा कर दिया है। बीस पुल-पुलिया का काम चल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here