मप्र में आस्था की डुबकी : सोमवती अमावस्या ,शनि जयंती पर लाखों श्रद्धालुओं ने पवित्र नदियों में किये स्नान

भोपाल // भीषण गर्मी के बावजूद सोमवती अमावस्या और शनि जयंती पर सोमवार को प्रदेश में नर्मदा व अन्य नदियों में स्नान के लिए श्रद्धालु उमड़े।
लाखों ने आस्था की डुबकी लगाई। सुबह सूरज निकलने से पहले ही तटों पर श्रद्धालु पहुंचने शुरू हो गए थे। स्नान का सिलसिला दोपहर तक जारी रहा। इसके बाद तटों पर बने मंदिरों में श्रद्धालुओं ने पूजन और दान किया।
उज्जैन : शिप्रा के तट पर सिंहस्थ जैसा नजारा….
ज्येष्ठ मास में सर्वार्थसिद्धि योग के संयोग में आई सोमवती अमावस्या पर मोक्षदायिनी शिप्रा के रामघाट पर सिंहस्थ जैसा नजारा दिखाई दिया। देशभर से आए करीब एक लाख भक्तों ने आस्था की डुबकी लगाई। सोमतीर्थ स्थित सोमकुंड और त्रिवेणी संगम पर श्रद्धालुओं ने फव्वारों में स्नान किया। इसके बाद आस्थावानों ने दान, पुण्य कर मंदिरों में दर्शन पूजन किए।
ओंकारेश्वर: 

खंडवा जिले के ओंकारेश्वर में सोमवती अमावस्या पर करीब 70 हजार श्रद्धालुओं ने नर्मदा स्नान किया। गौमुख घाट, संगम, अभय और नागर घाट पर भीड़ रही। नर्मदा में डुबकी लगाने के साथ ही भक्तों ने कतार में लगकर ओंकारेश्वर और ममलेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर में दर्शन किए।
होशंगाबाद :

 

सेठानी घाट सहित जिले के कई प्रमुख घाटों पर पैर रखने की भी जगह नहीं थी। होशंगाबाद जिला प्रशासन का अनुमान है कि साढ़े तीन लाख श्रद्धालुओं ने नर्मदा के विभिन्न् घाटों पर स्नान किया। श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए एक दिन पहले ही पुलिस जवानों को तैनात कर दिया था। सुबह से ही स्नान का सिलसिला शुरू हो गया था। तीखी गर्मी के कारण पूरे दिन श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। सबसे अधिक भीड़ सेठानी घाट और खर्राघाट पर रही।
हरदा : जिले में नेमावर और हंडिया घाट पर भी श्रद्धालुओं की भीड़ रही। रविवार रात से ही लोग नर्मदा घाट पर पहुंच चुके थे। सोमवार सुबह से स्नान का सिलसिला चलता रहा।

महाकोशल-विंध्य : सोमवती अमावस्या पर महाकोशल-विंध्य में लोगों ने नदियों में स्नान कर पूजन अर्चन किया। जबलपुर, नरसिंहपुर, मंडला, डिंडौरी, सतना, रीवा, सीधी, शहडोल में नर्मदा तटों पर श्रद्धालुओं की भीड़ रही।

 

बरमान-सतधारा में 50 हजार से ज्यादा श्रद्धालुओं ने नर्मदा में डुबकी लगाई और घाट पर पूजन-भंडारा किया। महिलाओं ने वट सावित्री पर्व पर वट की प्रदक्षिणा की। सतना जिले में चित्रकूट की मंदाकिनी नदी में हजारों ने पवित्र स्नान किया।
नर्मदा में डूबने से दो की मौत: पर्व की भीड़ के दौरान सतधारा में दोपहर करीब साढ़े 12 बजे 14 वर्षीय रामपाल पिता छत्रपाल लोधी निवासी बांदरी जिला सागर की पुराने पुल के पास डूबने से मौत हो गई। उसका शव करीब एक घंटे बाद मिला। वहीं झांसीघाट में 14 वर्षीय शिवानी पिता सेवकराम सिलावट निवासी मवई पिपरिया की डूबने से मौत हो गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here