COA की आज बैठक में तय होगा ,विश्व कप PAK के साथ खेलेगा भारत..?

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) का कामकाज देख रही दो सदस्यीय प्रशासकों की समिति (COA) आज यानी शुक्रवार को बैठक करेगी, जिसमें वह इस साल इंग्लैंड में होने वाले वनडे विश्व कप में पाकिस्तान के साथ खेलने या नहीं खेलने पर चर्चा कर सकती है. पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले में 40 सीआरपीएफ जवानों के शहीद होने के बाद कई पूर्व और मौजूदा खिलाड़ियों ने PAK के साथ खेलने का विरोध किया है. साथ ही यह भी कहा है कि अगर भारत विश्व कप में पाकिस्तान के साथ नहीं खेलता है, तो भारत को अंकों का नुकसान होगा जानकारी के मुताबिक, COA ने बुधवार को बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) राहुल जौहरी से कहा कि वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) को पत्र लिखकर पाकिस्तान को विश्व कप से प्रतिबंधित करने की बात कहें. अगर भारत ऐसा करता है तो यह उसके लिए नुकसानदायक कदम हो सकता है क्योंकि हो सकता है कि बाकी देश पाकिस्तान का बहिष्कार करने में भारत का समर्थन न करें अगर बीसीसीआई आईसीसी को इस तरह का पत्र लिखती भी है तो उसे अप्रैल में होने वाली बोर्ड की वार्षिक आम बैठक में सर्वसहमति हासिल करनी होगी. भारत को आईसीसी में बहुमत हासिल नहीं है, ऐसे में उसका यह मुद्दा उठाना भारत के 2021 में होने वाली चैम्पियंस ट्रॉफी और 2023 में होने वाले विश्व कप की मेजबानी पर खतरा पैदा कर सकती है COA के अध्यक्ष विनोद राय और डायना इडुल्जी के बीच आज होने वाली इस बैठक को पहले एक रुटीन बैठक के तौर पर देखा जा रहा है, जिसमें आम मुद्दों पर चर्चा होनी है. लेकिन, पुलवामा में हुए आंतकी हमले के बाद से देश में बने माहौल को देखते हुए पाकिस्तान के मुद्दे पर भी चर्चा हो सकती है. बीसीसीआई इस मुद्दे को 27 फरवरी से दो मार्च के बीच होने वाली आईसीसी की बैठक में भी उठा सकती है.

पूर्व कप्तानों ने कहा- PAK के साथ क्रिकेट नहीं
पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद की ओर से पुलवामा में 14 फरवरी को की गई आतंकी वारदात में CRPF के 40 जवान शहीद हो गए थे. इस हमले के बाद भारत के तमाम पूर्व क्रिकेटरों ने पाकिस्तान के साथ क्रिकेट नहीं खेलने की इच्छा जताई है. इसमें हरभजन सिंह से लेकर पूर्व कप्तान सौरव गांगुली, चेतन चौहान, गौतम गंभीर और पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन के नाम शामिल हैं सौरव गांगुली ने बुधवार को कहा कि सिर्फ क्रिकेट ही नहीं बल्कि पाकिस्तान के साथ सभी खेलों में संबंध खत्म होने चाहिए. पूर्व कप्तान गांगुली ने टीम इंडिया के अपने पूर्व साथी हरभजन सिंह का समर्थन करते हुए कहा कि विश्व कप के एक मैच में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलने से भारत की संभावनाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

गांगुली बोले- खत्म करो संबंध
गांगुली से पहले गेंदबाज हरभजन सिंह ने ‘आजतक’ से बातचीत में कहा था कि भारत को विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ मैच नहीं खेलना चाहिए. उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले के बाद माहौल अलग है, हम पहले भारतीय हैं और उसके बाद क्रिकेटर हैं. एक तरफ आपके जवानों पर हमला हो और दूसरी ओर आप उसी मुल्क के साथ क्रिकेट खेलें, यह नहीं हो सकता पूर्व क्रिकेटर और यूपी सरकार में मंत्री चेतन चौहान ने कहा कि भारत ICC पर पाकिस्तान क्रिकेट टीम को विश्व कप से बाहर करने का दवाब डाले. उन्होंने कहा कि हम पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय सीरीज पहले ही नहीं खेल रहे हैं, ऐसे में विश्व कप मैच भी नहीं खेलना चाहिए. चौहान ने कहा कि पाकिस्तान में बढ़ता आतंकवाद दुनियाभर के लिए परेशानी का सबब बन गया है.

गावस्कर की राय है अलग
पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने कहा कि भारत अगर वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के साथ मैच नहीं खेलता है तो नुकसान उसे ही होगा. गावस्कर ने कहा, ‘अगर हम पाकिस्तान से वर्ल्ड कप में मैच नहीं खेलते हैं, तो हम हारे हुए कहलाएंगे और उन्हें 2 अंक दे बैठेंगे. इसलिए सबसे अच्छा तरीका यह होगा कि विश्व कप में अब उनके साथ खेलकर उन्हें हरा दें गावस्कर ने कहा, ‘BCCI पाकिस्तान को वर्ल्ड कप से बाहर करने की कोशिश कर सकती हैं. लेकिन, ऐसा होगा नहीं. क्योंकि, इसके लिए दूसरे सदस्य देशों की भी स्वीकृति चाहिए होगी.’ गावस्कर ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि अन्य सदस्य देश पाकिस्तान को वर्ल्ड कप से बाहर करने की स्वीकृति देंगे. लेकिन, भारत कोशिश कर सकता है कि पाकिस्तान को विश्व कप खेलने से रोका जाए.’ गावस्कर ने कहा, ‘मैं जानता हूं कि पाकिस्तान के साथ मैच नहीं खेलने के बाद भी भारत इतना मजबूत है कि वह अगले दौर के लिए क्वालिफाई कर सकता है. लेकिन, पाकिस्तान को सबसे ज्यादा तकलीफ द्विपक्षीय रूप से कोई सीरीज नहीं खेलने से होगी. वर्ल्ड कप में अगर हम उनके साथ मैच नहीं खेलते हैं तो उन्हें 2 अंक का फायदा ही होगा नुकसान नहीं.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here