कमलनाथ से मिले शिवराज, उठाई पाला प्रभावित किसानों को मुआवजा देने की मांग

कमलनाथ से मिले शिवराज, उठाई पाला प्रभावित किसानों को मुआवजा देने की मांग

शंकराचार्य प्रतिमा लोकार्पण,बुदनी के अधूरे विकास कार्य व स्वीकृत स्वेच्छानुदान राशि भुगतान का मामला भी उठाया 
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार शाम मुख्यमंत्री कमलनाथ से सौजन्य भेंट की। इस दौरान उन्होंने तीन मुद्दों पर चर्चा की। चौहान ने मीडिया से कहा,कि उन्होंने पाला प्रभावित किसानों क ो मुआवजा देने तथा किसानों से किए गए वायदों को निभाने की बात भी मुख्यमंत्री से कही। 
मुख्यमंत्री से बातचीत के दौरान शिवराज ने कहा कि खंडवा जिले के ओंकारेश्वर में स्थापित शंकराचार्य की प्रतिमा का जल्द ही लोकार्पण करवा दिया जाए । इसके साथ ही बुदनी में रुके हुए कई विकास कार्य जल्द चालू कराए जाएं। चौहान ने कहा कि चुनाव आचार संहिता के पहले जिन लोगों को मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान की राशि स्वीकृत की गई थी मानवीयता के नाते उन्हें इसका भुगतान कर दिया जाए। बताया जाता है,कि  मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी  शिवराज को आश्वस्त किया कि जल्द ही इन विषयों पर वे विचार करेंगे।  
 किसानों से किए गए वायदे निभाने की बात कही
मंत्रालय से आने के बाद शिवराज सिंह ने मीडिया को बताया कि उन्होंने किसानों से किये वादे निभाने की कमलनाथ से बात कही है। प्रदेश में किसानों को पाले का मुआवजा दिया जाना चाहिये। साथ ही प्रदेश में बढ़ रहे अपराधों की रोकथाम को लेकर भी इस दौरान चर्चा हुई।
तबादलों के फेर में न पड़ें मुख्यमंत्री
इससे पहले  उन्होंने अपने एक बयान में कहा कि प्रदेश में अपराध और अपराधी फिर सिर उठा रहे हैं। बच्चों के अपहरण हो रहे हैं, हत्याएं हो रही हैं और डाकू समस्या फिर गंभीर होने लगी है। मुख्यमंत्री कमलनाथ तबादलों के फेर में न पड़ें और प्रदेश की कानून व्यवस्था सुधारने पर ध्यान दें।  प्रदेश में लगातार बढ़ रहे अपराधों को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने प्रदेश सरकार की निंदा की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में ये क्या हो रहा है, नई सरकार के आने के बाद से पुलिस महकमे में ही 800 से ज्यादा ट्रांसफ र हो चुके हैं। मुख्यमंत्री इस खेल को छोड़कर प्रशासन संभालें और कानून व्यवस्था पर ध्यान दें। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता की सुरक्षा की हमें चिंता है। श्री चौहान ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री से आग्रह करूंगा कि वे कानून व्यवस्था के मामले में आरोप-प्रत्यारोप न करें, जनता की सुरक्षा करना उनकी ड्यूटी है। सरकार जनता की सुरक्षा पर ध्यान दे।
फिर सिर उठाने लगी डाकू समस्या
पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारी सरकार के समय में हमने तय किया था कि मध्यप्रदेश की धरती पर एक भी डकैत नहीं रहेगा। लेकिन प्रदेश में अब फि र से डकैत गिरोह सक्रिय होने लगे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने अगर समय रहते इस समस्या का समाधान नहीं किया, तो डकैत फि र से प्रदेश में खेलने लगेंगे। चौहान ने कहा कि प्रदेश में दिन दहाड़े बच्चों के अपहरण हो रहे हैं। इससे दुर्भाग्यपूर्ण कोई बात नहीं है। उन्होंने कहा कि उन माँ-बाप की स्थिति हम समझ सकते हैं, जिनके बच्चों का अपहरण हुआ है। जरूरत इस बात की है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ और उनकी सरकार भी इसे समझे और कानून व्यवस्था सुधारने के लिए तत्काल कदम उठाए। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here