इजरायल ने बताया, कैसे उसके सैनिकों को हॉट तस्वीरें भेजकर हमास ने चली चाल

येरूशलम
वैसे तो लड़ाई सैनिकों, तोप, गोला-बारूद, अत्याधुनिक साजोसामान से लड़ी जाती है लेकिन दूसरा तरीका बिना बम गिराए दुश्मन देश को टारगेट करने का भी है। जी हां, आज के समय में जब कोई देश सामने वाले मुल्क को चुनौती नहीं दे पाता तो वह हैकिंग जैसे हथकंडे का सहारा लेता है। इजरायल की सेना ने खुद स्वीकार किया है कि उसके कई सैनिकों को आतंकी संगठन हमास ने निशाना बनाया।

हमास के हैकर सोशल मीडिया पर खुद को महिला के रूप में दिखाते थे। खूबसूरत और हॉट लड़कियों की तस्वीरें भेजकर आतंकी सैनिकों को फंसाने की कोशिश कर रहे थे। उनकी पूरी कोशिश होती थी कि सैनिकों से दोस्ती करने के बाद उन्हें मालवेयर डाउनलोड करने के लिए मना लिया जाए जिससे उनके फोन हैक किए जा सकें।

लेफ्टिनेंट कर्नल जोनाथन कॉर्निकस ने कहा कि पिछले कुछ महीनों में कई सैनिकों का फोन हैक करने की कोशिश की गई, लेकिन हमास के पास कोई सीक्रेट सूचना नहीं पहुंच पाई। इससे पहले रविवार को इजरायली सेना उस वक्त दंग रह गई जब उसके खुद के अकाउंट से 'हॉट सेल्‍फी' पोस्ट कर दी गई, जिसके बाद उसे काफी ट्रोल होना पड़ा। इसके बाद इजरायली सेना की तरफ से यह बयान आया है जिससे संकेत मिलता है कि अकाउंट हैक किया गया था।

अमूमन ऐसा होता है कि हनी ट्रैप में सुरक्षाकर्मियों को लुभाकर उनसे सीक्रेट जानकारी ली जाती है। यहां खेल अलग है। यहां सीधे सैनिकों के फोन हैक किए जाते हैं ताकि सीक्रेट जानकारी उड़ाई जा सके। उधर, सैन्य अधिकारी कॉर्निकस ने कहा कि यह हमास की तरफ से हमारे सैनिकों का फोन हैक करने की तीसरी कोशिश है।

इससे पहले जुलाई 2018 में ऐसा प्रयास किया गया था। उन्होंने कहा कि हमास फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और टेलिग्राम का इस्तेमाल करता है और उन सैनिकों को निशाना बनाता है जिनपर संदेह नहीं किया जा सकता। खुद को महिला के रूप में दिखाकर फोटो और मेसेज भेज सैनिकों से दोस्ती की जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here