लोकसभा में भी अपने प्रदर्शन को बेहतर बनाए रखने मालवा पर कांग्रेस की नजर

लोकसभा में भी अपने प्रदर्शन को बेहतर बनाए रखने मालवा पर कांग्रेस की नजर

दिग्विजय हुए सक्रिय, आधा दर्जन सीटों का लक्ष्य किया तय
कांग्रेस एक बार फिर भाजपा का गढ़ कहे जाने वाले मालवांचल में सेंध लगाने की जुगत में है। विधानसभा चुनाव के दौरान इस अंचल में किए गए अपने बेहतर प्रदर्शन को वह लोकसभा चुनाव में भी कायम रखने का प्रयास कर रही है। इसके चलते उसकी नजर अंचल की आधा दर्जन सीटों पर है। इसी तारतम्य में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर इस क्षेत्र का रुख किया है। 
पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने दो दिवसीय प्रवास के दौरान उज्जैन व जावरा पहुंचे। उज्जैन में उन्होंने मां हरसिद्धि के दर्शन किए तो जावरा में भी मजार पर मत्था टेका। यहां से वह मंदसौर,नीमच होते हुए राजस्थान के जाजली स्थित हनुमान मंदिर पहुंचे। वहां भी उन्होंने पूजा अर्चना की ।
 पार्टी सूत्रों के मुताबिक, अपनी इन धार्मिक यात्राओं के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री ने पार्टी के नेताओं व कार्यकर्ताओं से भी मुलाकात की। दरअसल, बीते विधानसभा चुनाव में दिग्विजय सिंह ने पार्टी संगठन को एकजुट करने में अहम भूमिका अदा की थी। उन्हें पार्टी का समन्वय समिति का अध्यक्ष बनाया गया था। उन्होंने पार्टी द्वारा सौंपी गई जिम्मेदारी को बखूबी निभाया। अब वह लोकसभा चुनाव को लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं  को जोडऩे के काम पर निकल गए हैं। भूले बिसरे कांग्रेसियोंं के घर-घर दस्तक दे रहे हैं। जावरा, रतलाम, मंदसौर सहित कई शहरों में उन्होंने कार्यकर्ताओं की बैठकें भी लीं।
  रतलाम के बाद अब मंदसौर पर भी नजर 
 लोकसभा की बात करें तो मालवांचल में कांग्रेस के पास एक मात्र सीट झाबुआ-रतलाम ही है ।  यह भी उसे उपचुनाव के दौरान हासिल हुई थी। पिछले विधानसभा चुनाव में मालवा में अपने बेहतर प्रदर्शन को देखते हुए पार्टी ने अब इस अंचल से आधा दर्जन सीटें (इंदौर,उज्जैन,रतलाम,मंदसौर,धार व राजगढ़)जीतने का लक्ष्य रखा है। किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में हुए गोलीकांड व पांच किसानों की मौत को चुनाव का मुद्दा बनाने के बावजूद विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मंदसौर से कोई लाभ नहीं मिल सका।  कमोवेश यही स्थिति बीते लोकसभा चुनाव में भी रही। वर्ष 2014 में पार्टी ने मीनाक्षी नटराजन को  अपना उम्मीदवार बनाया था,लेकिन उन्हें कड़ी हार का सामना करना पड़ा था। बहरहाल, दिग्विजय के दौरे के बाद अब भाजपा सतर्क हो गई है। विधानसभा चुनाव के दौरान मालवांचल में गड़बड़ाए प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए ही आगामी 16 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा का आयोजन धार में किया जा रहा है। इसके बहाने पार्टी समूचे मालवांचल को साधने का प्रयास करेगी। इसके चलते प्रधानमंत्री की सभा  में एक लाख लोगों को जुटाने का लक्ष्य रखा गया है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here