प्रशासन अकादमी में राष्ट्रीय सेमीनार आयोजित

विद्यापीठ को अंतर्राष्ट्रीय-स्तर का बनायेंगे – मंत्री शर्मा
विधि-विधायी एवं जनसम्पर्क मंत्री पी.सी. शर्मा ने ‘भारतीय संसदीय लोकतंत्र का बदलता स्वरूप” विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सेमीनार को संबोधित करते हुए कहा कि पं. कुंजीलाल दुबे राष्ट्रीय संसदीय विद्यापीठ को अंतर्राष्ट्रीय-स्तर का बनायेंगे। उन्होंने कहा कि संसदीय प्रणाली के स्वरूप को सभी नागरिकों के लिये समझना आवश्यक है। शर्मा ने कहा कि संसदीय लोकतंत्र का स्वरूप बदल रहा है। अभी भी संसदीय प्रणाली से आम जन-मानस भली-भाँति अवगत नहीं हैं। विद्यापीठ द्वारा इसके प्रचार-प्रसार के लिये बेहतर कार्य किया जा रहा है। शर्मा ने कहा कि संसदीय प्रणाली के स्वरूप को आम जन-मानस तक पहुँचाया जाना आवश्यक है, ताकि आमजन अवगत हो सकें कि प्रक्रियागत कार्य कैसे विभिन्न स्तरों से होते हुए परिणाम तक पहुँचते हैं। शर्मा ने विद्यापीठ के लिये अतिरिक्त स्थान की आवश्यकता को पूर्ण किये जाने के लिये विभिन्न स्तरों पर चर्चा करने को आश्वस्त किया। उन्होंने पीठ की संचालक डॉ. प्रतिमा यादव के मांग प्रस्ताव के संबंध में कहा कि पीठ की सभी आवश्यकताएँ और मांगें पूरी की जायेंगी और संसदीय विद्यापीठ को अंतर्राष्ट्रीय स्तर का बनाया जायेगा। सेमीनार में विषय-विशेषज्ञों डॉ. ए.पी. सिंह चौहान, प्राध्यापक जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर, डॉ. ए.के. वर्मा, संचालक सेंटर फॉर स्टडी ऑफ सोसायटी एण्ड पॉलीटिक्स कानपुर, डॉ. पुष्पेन्द्र पाल सिंह मध्यप्रदेश माध्यम और सुबह सिंह सेवानिवृत्त सहायक महाप्रबंधक बरोड़ा अकादमी जयपुर के साथ प्रमुख सचिव संसदीय कार्य विभाग अजीत केसरी, प्रमुख सचिव विधानसभा ए.पी. सिंह ने भी अपने विचार व्यक्त किये।

पुस्तक का विमोचन
सेमीनार में अतिथियों ने ‘भारतीय संसदीय लोकतंत्र का बदलता स्वरूप” पुस्तक का विमोचन किया। पुस्तक में शोधार्थियों के शोध-पत्र प्रकाशित किये गये हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here