मप्र: कमलनाथ दिल्ली पहुंचे ,कर सकते हैं भूरिया को PCC अध्यक्ष बनाने की सिफारिश

कमलनाथ कर सकते हैं भूरिया को PCC अध्यक्ष बनाने की सिफारिश

भोपाल। झाबुआ उपचुनाव से निपटने के बाद अब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर एकबार फिर राजनीतिक माहौल गरमाने लगा है। मुख्यमंत्री कमलनाथ दीपावली मनाने के बाद सोमवार दोपहर दिल्ली रवाना हो गए हैं। उनकी वहां कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सहित अन्य प्रमुख नेताओं से मुलाकात होने की संभावना है।

इसके चलते जल्द ही पीसीसी अध्यक्ष के लिए नाम तय होने की सुगबुगाहट तेज हो गई है। इधर, मुख्यमंत्री कमलनाथ के विश्वस्त माने जाने वाले मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने उपचुनाव जीतने वाले कांतिलाल भूरिया को पीसीसी अध्यक्ष बनाए जाने की वकालत की है।

मप्र में कमलनाथ सरकार बनने के बाद से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के प्रभार से मुक्त होने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ हाईकमान को कह चुके हैं और अलग-अलग मंचों से भी इस तरह की टिप्पणी कर चुके हैं। लोकसभा चुनाव की वजह से पहले यह फैसला टला तो बाद में राहुल गांधी के इस्तीफे से अटक गया।

सूत्र बताते हैं कि अब पीसीसी अध्यक्ष का फैसला नवंबर में किसी भी स्थिति में हो जाने के संकेत हैं। हालांकि इसको लेकर प्रदेश के दिग्गज नेता अपनी-अपनी ताकत लगा रहे हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का पीसीसी अध्यक्ष के लिए नाम सबसे ज्यादा चर्चा में है, लेकिन उनके विरोधियों के प्रयास हैं कि उनको छोड़कर दूसरे किसी भी नेता को जिम्मेदारी सौंप दी जाए।

नए पीसीसी अध्यक्ष की चर्चा के बीच लोक निर्माण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने फिर बयान देकर मुद्दे को हवा दी है। वर्मा ने इस बार झाबुआ उपचुनाव जीतने वाले कांतिलाल भूरिया को पीसीसी अध्यक्ष के लिए सबसे उपयुक्त नेता बताया है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के 31 आदिवासी विधायक हैं और इस वर्ग के नेता को पीसीसी अध्यक्ष बनाया जाना चाहिए। भूरिया वरिष्ठ आदिवासी नेता हैं और पूर्व में पीसीसी अध्यक्ष भी रह चुके हैं। हालांकि वर्मा इसके पहले मंत्री बाला बच्चन को पीसीसी अध्यक्ष बनाए जाने की मांग कर चुके हैं, जिस पर उन्होंने सफाई भी दी है। उन्होंने कहा कि बच्चन से वरिष्ठ भूरिया हैं तो वे इसके लिए ज्यादा उपयुक्त नेता होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here