खाने के इतने ज्यादा आर्डर मिले कि ‘ऐप ‘ ही बर्दाश्त न कर पाया, हुआ क्रैश

इंदौर / भोजन का ऑनलाइन आर्डर लेने वाली एक कंपनी को रविवार को अपने एक ऑफर पर इतने ज्यादा आर्डर मिले कि कंपनी का सम्बंधित ‘ऐप ‘ ही इनकी संख्या बर्दाश्त न कर पाया और क्रैश हो गया। इसके चलते आर्डर करने वालों को न खाना मिला ,न पैसे वापस।

कंपनी के 10 साल पूरे होने पर ऑनलाइन फूड ऑर्डिरिंग ऐप जोमेटो द्वारा दिया गया ऑफर लोगों के लिए मुसीबत बन गया।

दरअसल , इंदौर में ही 2200 से ज्यादा रेस्तरां, होटल के जरिए भोजन डिलिवर करने वाली कंपनी ‘जोमेटो ‘ ने रविवार को नो कुकिंग संडे ऑफर दिया था। इसमें कंपनी द्वारा दिए गए कोड का इस्तेमाल करने पर ऑर्डर की राशि पर 50 प्रतिशत का डिस्काउंट दिया गया था।

देशभर में पेश किए गए इस ऑफर में कंपनी के पास इतने ज्यादा ऑर्डर आ गए कि उसका ऑनलाइन सर्वर ही क्रैश हो गया। इससे शहर में भी हजारों लोगों के ऑर्डर फंस गए। लोगों को न खाना मिला और न 24 घंटे के बाद फंसे हुए रुपए। कंपनी ने ग्राहकों को मैसेज किया कि उनके रुपए चार-पांच दिन में वापस किए जाएंगे जबकि सामान्य तौर पर 24 घंटे में लौटाना होते हैं।

जोमेटो शहर से 2200 से ज्यादा रेस्तरां, होटल और कैफे आदि के जरिए ऑनलाइन फूड डिलिवर करता है। डिलिवरी से जुड़े कंपनी के एक कर्मचारी ने बताया कि हर दिन जोमेटो को शहर से 10 हजार से ज्यादा ऑनलाइन ऑर्डर मिलते हैं। वीकेंड्स पर यह संख्या 15 हजार से ज्यादा हो जाती है। जोमेटो ने एक हजार से ज्यादा डिलिवरी बॉय रखे हैं। खाना और रुपए नहीं मिलने पर लोगों ने सोशल मीडिया पर भी जमकर गुस्सा निकाला और जोमेटो को टैग करते हुए ट्विटर पर पोस्ट डाले।

पांच-सात में दूर होगी समस्या
रविवार को पूरे दिन जोमेटो से ऑनलाइन ऑर्डर करने वाले लोग परेशान होते हैं। सर्वर पर लोड बढ़ने से ऐप पूरे दिन ठीक से नहीं चली। भुगतान होने के बाद ऑर्डर कन्फर्म नहीं हुआ। कस्टमर केयर से जवाब मिला कि मामला सुलझाने का प्रयास कर रहे हैं।

इसके बाद देर रात लोगों के पास मैसेज आया कि सर्वर डाउन होने से कई लोगों को यह परेशानी आई है। पांच से सात कार्यालयीन दिनों में यह समस्या सुलझाकर रुपए रिफंड कर देंगे।
शहर में जोमेटो

– 10 हजार से ज्यादा रोजाना ऑनलाइन ऑर्डर
– 15 हजार से ज्यादा हो जाते हैं वीकेंड पर
– 2200 से ज्यादा रेस्तरां, होटल के जरिए डिलिवर होता है खाना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here