विदेश में फंसे भारतीय ने Tweet से मांगी मदद तो जानें क्या दिया जवाब, सुषमा स्वराज की राह पर एस जयशंकर

 नई दिल्ली 
विदेशों में फंसे भारतीयों की सोशल मीडिया के जरिये मदद करने की विदेश मंत्रालय की परंपरा को जारी रखते हुए कुवैत स्थित भारतीय दूतावास वहां फंसी एक भारतीय महिला को वापस लाने के लिये काम कर रहा है। महज एक ट्वीट के जरिए विदेशों में फंसे भारतीयों की मदद करने के लिए मशहूर दिवंगत पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की राह पर एस जयशंकर भी चल पड़े हैं। एक ट्वीट के बाद जिस तरह से विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्विटर पर एक भारतीय को भरोसा दिलाया, उससे सुषमा स्वराज की यादें ताजा हो गईं। 

दरअसल, एक महिला नौकरी दिलाने वाले एजेंटों के झांसे में आकर कुवैत में फंस गई। हालांकि, दूतावास ने फिलहाल उसे एक महिला आश्रय गृह में रखा है।
विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्विटर पर मदद की गुहार लगाए जाने पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए महिला को मदद का भरोसा दिलाया। 

ट्विटर पर एक व्यक्ति ने लिखा, ''डॉ एस जयशंकर, कुवैत में फंसी राजी जॉन स्टीफेन नाम की महिला के मामले को देखिये, वह गुरदासपुर (पंजाब) की रहने वाली है। एजेंटों के चलते वहां उसे तंग किया गया। उसके परिवार ने मुझसे संपर्क किया। उसकी स्वदेश वापसी की आशा और कामना करता हूं।
  
इसके बाद विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि राजी जॉन को कुवैत स्थित भारतीय दूतावास ने सुरक्षित रूप से एक महिला आश्रय गृह में रखा है। उन्होंने कहा, ''उनकी स्वदेश वापसी के लिये हम स्थानीय अधिकारियों के साथ काम कर रहे हैं।

वहीं, मदद की एक और गुहार लगाते हुए एक व्यक्ति ने जयशंकर से फुकेट में एक दुर्घटना में मारी गई एक भारतीय महिला का शव स्वदेश लाने में मदद करने को कहा। 

मंत्री ने कहा, ''थाईलैंड स्थित हमारा दूतावास शोकाकुल परिवार के संपर्क में है और इस मुश्किल घड़ी में उन्हें हर सहायता मुहैया की जा रही है।
  
गौरतलब है कि पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी विदेश मंत्रालय की कमान संभालने के दौरान विदेशों में फंसे भारतीयों की मदद के लिये टि्वटर पर काफी सक्रिय रही थी। 
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here