मप्र :मंत्रालय एनेक्सी का लोकार्पण ,भोपाल मेट्रो परियोजना की नींव भी रख सकते हैं पीएम मोदी

भोपाल। मंगलवार 25 सितंबर को आयोजित होने वाले भाजपा कार्यकर्ता महाकुंभ में हिस्सा लेने पीएम नरेंद्र मोदी कल भोपाल आ रहे है। इस दौरान वह मंत्रालय एनेक्सी का लोकार्पण एवं भोपाल मेट्रो परियोजना की नींव भी रख सकते हैं।

annexy
मप्र मंत्रालय एनेक्सी

सचिवालय का नया भवन…
दरअसल मध्यप्रदेश शासन सचिवालय का नया भवन बन कर तैयार है। 25 सितंबर को कार्यकर्ता महाकुंभ के लिए आ रहे पीएम नरेंद्र मोदी से इसका उद्घाटन कराने की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं।

ये है खासियत…
615 करोड़ रुपये से ज्यादा लागत से बने इस मंत्रालय में करीब 495 करोड़ रुपये भवन बनाने में खर्च हुए हैं। नया मंत्रालय पूरी तरह से हाईकेट होगा। शुरूआत में भवन निर्माण का बजट 436 करोड़ था, जिसे बाद में रिवाइज कर दिया गया। इस भवन में करीब 16 लिफ्ट्स लगाई गई है। कंस्ट्रक्शन कंपनी ने इसे साढ़े तीन साल में बनाया है।

मध्यप्रदेश शासन के नये मंत्रालय में बायोमेट्रिक एक्सेस कंट्रोल होगा। कोई भी अधिकारी व कर्मचारी बिना एक्सेस कार्ड के प्रवेश नहीं कर पाएगा। पूरे भवन में वाई-फाई के साथ सेंट्रलाइज एसी की सुविधा दी गई है।

मंत्री-प्रमुख सचिव के कक्ष में रेस्ट रूम है। सभी के लिए अलग से बैठक कक्ष बनाए गए हैं, जिनमें प्रोजेक्टर लगा है। प्रमुख सचिव के कक्ष के बराबर अंडर सेक्रेटरी का भी कक्ष बनाया गया है।

इसके अलावा नए भवन में मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव के लिए अलग लिफ्ट लगाई गई है। 700 गाड़ियों की मल्टीलेवल पार्किंग भी इस भवन में बनाई गई है। इसके साथ ही 120 करोड़ करोड़ रुपये फर्नीचर, साज-सज्जा और अन्य सुविधाओं पर खर्च किए गए हैं। रेप्लिका व पेंटिंग के साथ प्राचीन धरोहरों के लिए 100 से ज्यादा जगह चिह्नित की गई है।

 कौन कहां बैठेगा…
सूत्रों के मुताबिक सरकार यह तय कर चुकी है कि सितंबर के अंत तक सभी 35 विभाग के अधिकारी और स्टाफ मंत्रालय एनेक्सी में पहुंचेंगे। पिछले दिनों अपर मुख्य सचिव गौरी सिंह एनेक्सी में अपने कक्ष में पूजन भी कर चुकी हैं।

पांचवें तल पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कक्ष सहित कार्यालय के कामों को भी तेजी के साथ पूर्ण किया जा रहा है। सुरक्षा के मद्देनजर यहां का बाहरी कांच बुलेटप्रुफ रहेंगे।

भोपाल-इंदौर मेट्रो …
मध्यप्रदेश में भोपाल और इंदौर की जनता को अब और इंतजार नहीं करना होगा। भोपाल और इंदौर मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए विदेशी बैंकों से लोन लेने के लिए केंद्रीय वित्त मंत्रालय के प्रोजेक्ट इंवेस्टमेंट बोर्ड (पीआईबी) की मंजूरी मिल गई है। अब यह प्रोजेक्ट मोदी कैबिनेट में रखा जाएगा।उम्मीद की जा रही है कि आगामी 25 सिंतबर को महाकुंभ में शामिल होने आ रहे पीएम मोदी इसका भी लोकार्पण कर सकते है।

तीन फेज में पूरा किया जाएगा

भोपाल मेट्रो प्रोजेक्ट तीन फेज में पूरा किया जाएगा। पहले फेज में भदभदा से रत्नागिरी तक 12.34 किमी और करोंद से एम्स तक 14.3 किमी लंबा रूट तैयार किया जाएगा। करोंद से एम्स के बीच 16 जबकि भदभदा से रत्नागिरी के बीच 14 स्टेशन बनेंगे। इसकी लागत 6962 करोड़ रुपए आंकी गई है।

दरअसल, मप्र में नवंबर-दिसबंर में विधानसभा चुनाव होना है, ऐसे में सरकार द्वारा मेट्रो रेल को लेकर तेजी से विचार किया जा रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज का पूरा फोकस है कि वह चुनाव का बिगुल बजने से पहले प्रदेश में मेट्रो की नींव पड़ जाए। इसके लिए उन्होंने पूरी तैयारी के साथ केंद्रीय मंत्रियों के साथ पूरी बातचीत की।

दोनों ही मंत्रियों ने बातचीत के दौरान ही उन्हें मदद की पूरा भरोसा दिया था। दिल्ली में प्रोजेक्ट इंवेस्टमेंट बोर्ड की बैठक में भोपाल और इंदौर मेट्रो प्रोजेक्ट को हरी झंडी मिल गई है।

भोपाल मेट्रो के लोन की मंजूरी के लिए यूरोपियन इंवेस्टमेंट बैंक (ईआईबी) की टीम अक्टूबर या नवंबर में भोपाल आ सकती है। वहीं इंदौर मेट्रो के लिए एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) से मंजूरी ली जाएगी। एडीबी की टीम भी इसी दौरान मप्र आ सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here