आखिर कौन चुरा रहा है PM वाली फोनलाइन?

नई दिल्ली 15वें वित्त आयोग के अध्यक्ष एनके सिंह के आवास पर सुरक्षा इंतजामों के साथ बिछवाई गई स्पेशल रैक्स फोनलाइन को लगातार पांचवीं बार डैमेज करने व चोरी का मामला अब गंभीर हो चला है। सीधे पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक के संज्ञान में आते ही वसंत कुंज साउथ थाने में केस दर्ज कर जांच शुरू हो चुकी है।

रैक्स फोनलाइन देश में सिर्फ पीएम व उनके कैबिनेट मिनिस्टर को ही दी गई हैं। ये लाइनें सीक्रेट बातचीत के लिए सुरक्षित होती हैं। फोन टैपिंग से पूरी तरह महफूज होती हैं, कोई जासूसी नहीं कर सकता।

पुलिस अफसरों के मुताबिक, सिंह का आवास वसंत कुंज साउथ के ग्रीन एवेन्यू लेन में है। पिछले साल ही एनके सिंह को अध्यक्ष बनाए जाने के बाद जीएसटी व अन्य वित्तीय योजनाओं के लिए सीक्रेट लाइन दी गई हैं। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, पीएम व कैबिनेट मिनिस्टर्स के अलावा कुछ खास ब्यूरोक्रैट्स को लाइन की परमिशन मिली है।

उसी कड़ी में वित्त आयोग के अध्यक्ष एनके सिंह के आवास पर रैक्स लाइन दी गई। शुरुआती तौर पर एक बार लाइन को डैमेज किया गया। तब इसे सिर्फ घटना के तौर पर देखा गया। लाइन को तब पूरी तरह से ठीक कर दिया गया लेकिन कुछ दिन बाद फिर से लाइन को डैमेज किया और ये सिलसिला अब पांचवीं बार हो चुका है।

 

इस बारे में भारत भूषण गर्ग की तरफ से पुलिस कमिश्नर को मेल लिखा गया जिसमें साफ तौर पर सेंसटिव मैटर का हवाला देते हुए लिखा कहा गया है कि अनेक बार लाइन में बाधा पहुंचाई गई है। इस बारे में एसडीओ को भी सूचना भेजी गई। कमिश्नर को मेल मिलने के बाद मामले में लोकल थाने में केस दर्ज हुआ है। इस बारे में पुलिस अफसरों ने बताया कि रैक्स फोन पूरी तरह से सुरक्षित होते हैं। ये लाइन सिर्फ भारत सरकार ही यूज कर सकती है। पीएमओ की मंजूरी के बाद ही कुछ सीनियर ब्यूरोक्रैट्स को लाइनें दी गई हैं। सरकार के वित्तीय प्रबंधन, फैसले व लेनदेन में रैक्स लाइन से होते हैं। फिलहाल पुलिस सभी पहलुओं से जांच कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here