सिख दंगों में कमलनाथ की मुश्किल बढ़ी, फिर होगी जाँच , सिरसा ने मांगा इस्तीफा

नई दिल्ली। 1984 के सिख दंगों में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ की मुश्किल बढ़ गई है। मामले में गठित SIT ने कमलनाथ के खिलाफ केस फिर से खोलने की बात कही है। इसके बाद विरोधियों ने कांग्रेस नेता पर हमले तेज कर दिए हैं। शिरोमणि अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा का कहना है कि कमलनाथ के खिलाफ यह बड़ी जीत है।
Kamal Nath in 1984 Anti Sikh Riots Case: अकाली नेता ने दावा किया कि कमलनाथ के खिलाफ दो लोग गवाही देने को तैयार हैं।
बकौल सिरसा, मैंने पिछले साल कमलनाथ के खिलाफ गृहमंत्रालय में शिकायत की थी। अब नोटिफिकेशन जारी हुआ है और केस नंबर 601/84 में फिर से जांच शुरू होगी तथा कमलनाथ के खिलाफ ताजा सबूतों पर अमल किया जाएगा।
सिरसा ने बताया कि दो गवाह सामने आए हैं। हमने उनसे बात की है। उन्हें SIT जब भी बुलाएगी, वे बयान देने को राजी हैं। दोनों में हमें बहुत कुछ बताया है। हमने दोनों गवाहों की सुरक्षा की मांग भी करते हैं।
सिरसा का आरोप है कि इंदिरा गांधी की हत्या के बाद दिल्ली के गुरुद्वारा रकाबगंज के बाद भड़की हिंसा में कमलनाथ का हाथ था।
सोनिया मांगे कमलनाथ का इस्तीफा: सिरसा
साथ ही सिरसा ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मांग की कि वे कमलनाथ को तत्काल मुख्यमंत्री पद से नीचे उतारे और सिखों के साथ न्याय करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here